Wednesday, December 17, 2014

आँखों आँखों में महसूसो

कैसे कह दूँ प्यार नहीं है
बंधन भी स्वीकार नहीं है

दिल में तेरी यादें हरदम
मन पर ही अधिकार नहीं है

कुछ खोया तो पाया भी कुछ
प्यार कभी बेकार नहीं है

प्यार सलामत अगर जिन्दगी
सूना ये संसार नहीं है

आँखों आँखों में महसूसो
प्यार कभी व्यापार नहीं है

यह मेरा है सब कहते पर
अपना तो घर द्वार नहीं है

सुमन मुहब्बत और फकीरी
सम तो है शमसार नहीं है

Sunday, December 7, 2014

आँसू को पानी कहता है

जो खुद को ज्ञानी कहता है
आँसू को पानी कहता है

रोज बटोरा, भरी तिजोरी
अपने को दानी कहता है

माँगा उसने, दिया सहारा
फिर क्यों मनमानी कहता है

जोश जोश में कदम उठाकर
अपनी नादानी कहता है

काम सुमन के सारे अच्छे
उसको बेमानी कहता है

Monday, December 1, 2014

सुन गूँगे की बोल

सम्भव नहीं खरीदना, प्रेम नहीं है चीज।
हृदय-खेत में अंकुरित, सुमन प्रेम के बीज।।

काँटे तो चुभते मगर, प्रेम सदा इक फूल।
आजतलक किसके लिए, प्रेम रहा अनुकूल?

मौन मुखर है प्रेम में, मत पीटो तुम ढोल।
क्या शक्कर का स्वाद है, सुन गूँगे की बोल।।

पाना तो कुछ भी नहीं, प्रेम त्याग का नाम।
मोल देह का कुछ नहीं,  प्रेम अन्त में राम।।

राम नाम के सँग में, होता जीवन अन्त।
सच्चे किस्से प्रेम के, गाते लोग अनन्त।।

Friday, November 28, 2014

सोच समझ पर ताला है

एक बार में कहना मुश्किल कौन यहाँ दिलवाला है
देख चमक दर्पण के आगे पर पीछे से काला है

काम बुरा, अच्छा ना सोचा भरा खजाना दौलत का
खुद के बाहर देख सका ना सोच समझ पर ताला है

कुदरत भी अब हुई प्रभावित देख सियासत की गरमी
पेड़ बहुत कम शीतल छाया ना कोई पनशाला है

गिनती धनवानों की सिमटी और गरीबी पसर रही
कुछ घर में दिवाली होती बाकी सब दिवाला है

आनेवाली पीढ़ी को हम क्या सौगात यही देंगे
अवसर सुमन जहाँ मिल जाए लूट रहा मतवाला है

Thursday, November 6, 2014

कौशल कैसा प्रेम में?

अभिनय कौशल प्रेम का, लेकिन मन में खोट।
परदा जब सच का हटे, सुमन हृदय में चोट।।

जीवन चलता प्रेम से, सदा सुमन रख ध्यान।
प्रेम बहुत अनमोल है, नहीं करो अपमान।।

उतर सके जो आँख से, हो दिल में अहसास।
ऐसे प्रेमी पर सुमन, कर सकते विश्वास।।

इक दूजे की आँख से, जाने कुशल व छेम।
कौशल कैसा प्रेम में, सुमन कुशल हो प्रेम।।

खोना पाना कुछ नहीं, प्रेम नहीं व्यापार।
त्याग-समर्पण ही सुमन, प्रेम-जगत आधार।।
हाल की कुछ रचनाओं को नीचे बॉक्स के लिंक को क्लिक कर पढ़ सकते हैं -
विश्व की महान कलाकृतियाँ- पुन: पधारें। नमस्कार!!!